माँ वो नोट बुक है, जिसमे औेलाद सब कुछ लिख सकती है, लेकिन माँ सिर्फ प्यार लिखती है।

हम तो अक्सर सारे गमो को हँस कर गले लगा लेते है, क्योंकि जिंदगी हमारी ही है इसे हम खुल कर जी लेते है।

रिश्तो के बाजार में रिश्तो को कुछ इस तरह सजाया जाता है, ऊपर से तो बहुत अच्छा दिखाया जाता है, पर अंदर न जाने क्या क्या मिलाया जाता है।

समय जीवन में सब कुछ सिखा देता है, और जो समय सिखा देता है, वह जीवन में कोई नही सिखाता है।

आज कल नज़रो से भी चोट लगा करती है, जब नज़रे देख कर भी अनदेखा कर दिया करती है।

हर किसी को जिंदगी दो तरीके से जीना चाहिये, पहला जो हासिल है उसे पसन्द करना सीख लो, और दूसरा पसन्द है उसे हासिल करना सीख लो।

जो आपकी किस्मत में लिखा है वो भाग कर आयेगा, और जो किस्मत में नही लिखा है वो आकर भी भाग जायेगा।

जब फैसला आसमान वाले का होता है, तब कोई बकालत जमीन वाले की नही होती है।

सड़क कितनी भी साफ क्यों न हो, लेकिन धूल हो ही जाती है। और इंसान चाहे कितना भी अच्छा क्यों न हो, भूल हो ही जाती है।

हम तो रोज़ खुद को पड़ते हैं, और रोज़ छोड़ देते हैं, हमतो हर रोज़ जिंदगी का एक पन्ना मोड़ देते हैं।

क्यूँकि रिश्तों में विश्वास, और मोबाईल में नेटवर्क ना हो, तो लोग Game खेलना शुरू कर देते हैं !!

साथ रहते यूँ ही वक़्त गुज़र जायेगा, दूर होने के बाद कौन किसे याद आयेगा, जी लो ये पल जब हम साथ हैं, कल क्या पता वक़्त कहाँ ले जायेगा।

रोया हूँ बहुत तब जरा करार मिला है, इस जहाँ में किसे भला सच्चा प्यार मिला है, गुजर रही है जिंदगी इम्तिहान के दौर से, एक ख़तम तो दूसरा तैयार मिला है।